Explore My India to discover the Mystique of Ancient Foot Prints, different Developmental Mile Stones and Indian Unity with the World Society.

दिल्ली का लाल किला का सच: The Truth about Lal Kila

1

Who built Lal Kila : A Truth
दिल्ली का लाल किला किसने बनाया : एक सच

दिल्ली का लाल किला ( Lal Kila ) के बारे में कई किबंतियाँ प्रचलित हैं  | अगर हर एक को बिस्तार से चर्चा किया जाय तो यह दावा कि इसका निर्माण शाहजहाँ के द्वारा हुवा था खोखला प्रतित होता है  |

पाठक के मस्तिस्क में यह सवाल उठाना लाजमी ही है कि अन्तोगत्वा लाल किला का निर्माण आखिर किसने करवाया?

अक्सर हमें यह पढाया जाता है कि दिल्ली का लाल किला ( Red Fort ) शाहजहाँ ने बनवाया था| लेकिन कहीं यह एक सफ़ेद झूठ तो नहीं | दिल्ली का लाल किला (Lal Kila) शाहजहाँ के जन्म से सैकड़ों साल पहले “महाराज अनंगपाल तोमर द्वितीय” द्वारा दिल्ली को बसाने के क्रम में ही बनाया गया था| इस क्रम में एक विशेष बात यह पता चलती है कि महाराज अनंगपाल तोमर कोई और नहीं बल्कि महाभारत के अभिमन्यु के वंशज तथा महाराज पृथ्वीराज चौहान के नाना जी थे| आइये इस सन्दर्भ में भारतवर्ष के गरिमामई अतीत के बारे में कुछ अन्य जानकारियां भी प्राप्त करें

 

 Lal Kilaइतिहास के अनुसार लाल किला का असली नाम “लाल कोट” है, जिसे महाराज अनंगपाल द्वितीय द्वारा सन 1060 ईस्वी में दिल्ली शहर को बसाने के क्रम में ही बनवाया गया था जबकि शाहजहाँ का जन्म ही उसके सैकड़ों वर्ष बाद 1592 ईस्वी में हुआ है| दरअसल शाहजहाँ ने लाल किला ( Lal Kila ) को बनाया या बसाया कुछ नहीं बल्कि उल्टे इसे बुरी  तरह से नष्ट करने की असफल कोशिश की थी ताकि, वो उसके द्वारा बनाया साबित हो सके लेकिन सच सामने आ ही जाता है|

साक्ष-परीक्षा:

इसका सबसे बड़ा प्रमाण तो यही है कि तारीखे फिरोजशाही के पृष्ट संख्या 160 (ग्रन्थ ३) में लेखक लिखता है कि सन 1296 के अंत में जब अलाउद्दीन खिलजी अपनी सेना लेकर दिल्ली आया तो वो कुश्क-ए-लाल ( लाल प्रासाद/ महल ) की ओर बढ़ा और वहां उसने आराम किया| सिर्फ इतना ही नहीं अकबरनामा और अग्निपुराण दोनों ही जगह इस बात के वर्णन हैं कि महाराज अनंगपाल ने ही एक भव्य और आलिशान दिल्ली का निर्माण करवाया था| शाहजहाँ से 250 वर्ष पहले ही 1398 ईस्वी में एक अन्य जेहादी तैमूरलंग ने भी पुरानी दिल्ली का उल्लेख किया हुआ है (जो कि शाहजहाँ द्वारा बसाई बताई जाती है)| यहाँ तक कि लाल किला ( Lal kila ) के एक खास महल मे सुअर (वराह) के मुँह वाले चार नल अभी भी लगे हुए हैं क्या ये शाहजहाँ के इस्लाम का प्रतीक चिन्ह है या हिंदुत्व के प्रमाण?

 

साथ ही किले के एक द्वार पर बाहर हाथी की मूर्ति अंकित है क्योंकि राजपूत राजा गजो (हाथियों) के प्रति अपने प्रेम के लिए विख्यात थे जबकि इस्लाम जीवित प्राणी के मूर्ति का विरोध करता है|
 

The Real Truth About Lal kila

यही नहीं लाल किला के दीवाने खास मे केसर कुंड नाम से एक कुंड भी बना हुआ है जिसके फर्श पर हिंदुओं के पूज्य कमल पुष्प अंकित है| साथ ही ध्यान देने योग्य बात यह है कि केसर कुंड एक हिंदू शब्दावली है जो कि हमारे राजाओ द्वारा केसर जल से भरे स्नान कुंड के लिए प्राचीन काल से ही प्रयुक्त होती रही है| मजेदार बात यह है कि मुस्लिमों के प्रिय गुंबद या मीनार का इस महल में कोई अस्तित्व तक नही है लाल किला के दीवानेखास और दीवानेआम मे| इतना ही नहीं दीवानेखास के ही निकट राज की न्याय तुला अंकित है जो अपनी प्रजा मे से 99 % भाग (हिन्दुओं) को नीच समझने वाला मुगल कभी भी न्याय तुला की कल्पना भी नही कर सकता जबकि, ब्राह्मणों द्वारा उपदेशित राजपूत राजाओ की न्याय तुला चित्र से प्रेरणा लेकर न्याय करना हमारे इतिहास मे प्रसिद्द है| दीवाने ख़ास और दीवाने आम की मंडप शैली पूरी तरह से 984 ईस्वी के अंबर के भीतरी महल (आमेर/पुराना जयपुर) से मिलती है जो कि राजपूताना शैली मे बना हुई है| आज भी लाल किला (Lal kila) से कुछ ही गज की दूरी पर बने हुए देवालय हैं जिनमे से एक लाल जैन मंदिर और दूसरा गौरीशंकार मंदिर है और, दोनो ही गैर मुस्लिम है जो कि शाहजहाँ से कई शताब्दी पहले राजपूत राजाओं के बनवाए हुए है| इन सब से भी सबसे बड़ा प्रमाण और सामान्य ज्ञान की बात यही है कि लाल किले का मुख्य बाजार चाँदनी चौक केवल हिंदुओं से घिरा हुआ है और, समस्त पुरानी दिल्ली मे अधिकतर आबादी हिंदुओं की ही है | और यह आज कि बात नहीं बल्कि सैकड़ों वर्ष पूर्व से ही ऐसा ही चलता आ रहा है | इन जगहों पर सनलिष्ट और घुमावदार शैली के मकान भी हिंदू शैली के ही है | सोचने वाली बात यह है कि क्या शाहजहाँ जैसा धर्मांध व्यक्ति अपने किले के आसपास अरबी, फ़ारसी, तुर्क, अफ़गानी के बजाए हिंदुओं के लिए हिन्दू शैली में मकान बनवा कर क्या अपने आस पास बसाता? और फिर शाहजहाँ या एक भी इस्लामी शिलालेख मे आखिर लाल किला ( Red Fort ) का वर्णन क्यों  नही मिलता  है ?
 
“गर फ़िरदौस बरुरुए ज़मीं अस्त, हमीं अस्ता, हमीं अस्ता, हमीं अस्ता” – अर्थात इस धरती पे अगर कहीं स्वर्ग है तो यही है, यही है, यही है| इस अनाम शिलालेख के आधार पर लाल किला ( Red Fort ) को शाहजहाँ द्वारा बनवाया गया करार दिया गया है जबकि किसी अनाम शिलालेख के आधार पर कभी भी किसी को किसी भवन का निर्माणकर्ता नहीं बताया जा सकता और ना ही ऐसे शिलालेख किसी के निर्माणकर्ता होने का सबूत ही देते हैं | जबकि, लालकिले को एक हिन्दू प्रसाद साबित करने के लिए आज भी हजारों साक्ष्य मौजूद हैं| यहाँ तक कि लाल किला से सम्बंधित बहुत सारे साक्ष्य पृथ्वीराज रासो से ही मिलते है|

अर्थात सरांस यही है कि लाल किले ( Lal Kila ) का निर्माण शाहजहाँ के द्वारा नहीं किया गया था बल्कि शाहजहाँ ने इस पूर्व महल में हेर फेर करके उसे अपना नाम देने कि कोशिश भर की थी  | सत्य को अधिक दिनों तक छिपाया नहीं जा सकता, यह उक्ति यहाँ बखूबी लागु होती प्रतित होती है  | इस सन्दर्भ में आखिर दिल्ली का नाम दिल्ली, कैसे पड़ा, जानकारी भी अति महत्वपूर्ण है, आइये इसे जाने ।

!!! सत्यं शिवम् सुन्दरम् !!!


Reference: From the article of Prof. Purushottam Nagesh Oak 
1 Comment
  1. Sudhir kumar says

    Very liked
    A truth story of Red Fort

Leave A Reply

Your email address will not be published.