Discovering the Vedas and Upanishads

0

वेद और उपनिषद के बारे में एक संक्षिप्त परिचर्चा

वेद और उपनिषद् ( Vedas and Upanishads ) पुरातन भारत के सनातनी पवित्र ग्रन्थ हैं, जिनकी चर्चा और परिचर्चा हर काल और खंड में बराबर की जाती रही है । आइये इनके बारे में हम भी अपना ज्ञान वर्धन करें । निम्न पंक्तियों में वैदिक साहित्य  का  संक्षिप्त विवरण दिया जा रहा है, आइये इन्हें जाने समझे ।

The Vedas and Upanishads

– वेदों ( Vedas ) को संहिता भी कहा जाता है।

– श्रुति साहित्य में वेदों का प्रथम स्थान है। वेद शब्द ‘विद’ घातु से बना है , जिसका अर्थ है ‘जानना’ ।

– वेदों से आर्यों के जीवन तथा दर्शन का पता चलता है ।

– वेदों की संख्या चार है। ये हैं- ऋग्वेद, यजुर्वेद, समावेद और अर्थवेद ।

– वेदों के संकलन का श्रेय महर्षि कृष्ण द्वैपायन वेद-व्यास को है ।

ऋग्वेद :

– ऋग्वेद में 10 मण्डलों में विभाजित है। इसमें देवताओं की स्तुति में 1028 श्लोक हैं। जिसमें 11 बालखिल्य श्लोक हैं ।

– ऋग्वेद में 10462 मंत्रों का संकलन है।

– प्रसिद्ध गायत्री मंत्र ऋग्वेद के चौथे मंडल से लिया गया है।

– ऋग्वेद का पहला ताथा 10वां मंडल क्षेपक माना जाता है ।

– नौवें मंडल में सोम की चर्चा है।

– आठवें मंडल में हस्तलिखित ऋचाओं को खिल्य कहा जाता है।

– ऋग्वेद में पुरुष देवताओं की प्रधानता है । 33 देवताओं का उल्लेख है।

– ऋग्वेद का पाठ करने वाल ब्राह्मण को होतृ कहा जाता था ।

– देवताओं में सबसे महत्वपूर्ण इंद्र थे ।

– ऋग्वेद में दसराज्ञ युद्ध की चर्चा है।

– उपनिषदों की कुल संख्या 108 है।

– वेदांग की संख्या 6 है।

– महापुराणों की संख्या 18 है।

– आर्यों का प्रसिद्ध कबीला भरत था ।

– जंगल की देवी के रूप में अरण्यानी का उल्लेख ऋग्वेद में हुआ है।

– बृहस्पति और उसकी पत्नी जुही की चर्चा भी ऋग्वेद में मिलती है।

– सरस्वती ऋग्वेद में एक पवित्र नदी के रूप में उल्लिखित है। इसके प्रवाह-क्षेत्र को देवकृत योनि कहा गया है।

– ऋग्वेद में धर्म शब्द का प्रयोग विधि(नियम) के रूप में किया गया है।

– ऋग्वेद की पांच शाखाएं हैं- वाष्कल, शाकल, आश्वलायन, शंखायन और माण्डुक्य

– अग्नि को पथिकृत अर्थात् पथ का निर्माता कहा जाता था ।

यजुर्वेद :

– यजुर्वेद में अनुष्ठानों तथा कर्मकांडों में प्रयुक्त होने वाले श्लोकों तथा मंत्रों का संग्रह है।

–  इसका गायन करने वाले पुरोहित अध्वर्यु कहलाते थे ।

– यजुर्वेद गद्य तथा पद्य दोनों में रचित है। इसके दो पाठान्तर हैं- 1.कृष्ण यजुर्वेद 2. शुक्ल यजुर्वेद

– कृष्ण यजुर्वेद गद्य तथा शुक्ल यजुर्वेद पद्य में रचित है।

– यजुर्वेद में राजसूय, वाजपेय तथा अश्वमेघ यज्ञ की चर्चा है।

– यजुर्वेद में 40 मंडल तता 2000 ऋचाएं(मंत्र) है।

सामवेद :

– सामवेद में अधिकांश श्लोक तथा मंत्र ऋग्वेद से लिए गए हैं।

– सामवेद का संबंद संगीत से है।

– इस वेद से संबंधित श्लोक और मंत्रों का गायन करने वाले पुरोहित उद्गातृ कहलाते थे ।

– इसमें कुल 1549 श्लोक हैं। जिसमें 75 को छोड़कर सभी ऋग्वेद से लिए गए हैं।

– सामवेद में मंत्रों की संख्या 1810 है।

अथर्ववेद :

– अथर्ववेद की ‘रचना’ अर्थवा झषि ने की थी ।

– अथर्ववेद के अधिकांश मंत्रों का संबंध तंत्र-मंत्र या जादू-टोने से है।

– रोग निवारण की औषधियों की चर्चा भी इसमें मिलती है।

– अथर्ववेद के मंत्रों को भारतीय विज्ञान का आधार भी माना जाता है।

– अथर्ववेद में सभा तथा समिति को प्रजापति की दो पुत्रियां कहा गया है।

– सर्वोच्च शासक को अथर्ववेद में एकराट् कहा गया है। सम्राट शब्द का भी उल्लेख मिलता है।

उपनिषद :

– सूर्य का वर्णन एक ब्राह्मण विद्यार्थी के रूप में किया गया है।

– उपवेद, वेदों के परिशिष्ट हैं जिनके जरिए वेद की तकनीकी बातों की स्पष्टता मिलती है।

– वेदों की क्लिष्टता को कम करने के लिए वेदांगों की रचना की गई ।

– शिक्षा की सबसे प्रामाणिक रचना प्रातिशाख्य सूत्र है ।

– व्याकरण की सबसे पहल तथा व्यापक रचना पाणिनी की अष्टाध्यायी है।

– ऋषियों द्वारा जंगलों में रचित ग्रंथों को आरण्यक कहा जाता है।

– वेदों ( Vedas ) की दार्शनिक व्याख्या के लिए उपनिषदों की रचना की गई ।

– उपनिषदों ( Upanishads ) को वेदांत भी कहा जाता है।

– उपनिषद का शाब्दिक अर्थ है एकान्त में प्राप्त ज्ञान ।

– यम तथा नचिकेता के बीच प्रसिद्ध संवाद की कथा कठोपनिषद् में वर्णित है।

– श्वेतकेतु एवं उसके पिता का संवाद छान्दोग्योपनिषद में वर्णित है।

– भारत का सूत्र वाक्य सत्यमेव जयते मुण्डकोपनिषद् से लिया गया है।

उद्धरण : स्मृति साहित्य 

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.